मेरे मन के मोदी मेरी क़लम से

मोदी जी को शासन काल में, जो मिली है चुनौतियाँ।
उन चुनौतियों को पार कर, पाई आ ये उपलब्धियां।
प्राचीन योग शिक्षा को लेकर मन में ध्यान।
21 मई को विश्व योग दिवस का हुआ ऐलान।
भारत को स्वच्छ रखना है, बना एक महाअभियान।
खुले में शोच नहीं करना, अब सबको हुआ है ज्ञान।

उज्जवला योजना से हर मॉं बहन की आँखों में चमक आयी।
धुएं के चूल्हे से मिला छुटकारा, अब करोड़ों घर में गैस आयी।
अब हर शख़्स खोल रहा बैंक में खाता।
जनधन योजना के तहत, वह गर्व से सिर उठाता।
गंगा माँ की सफ़ाई के लिए, जो उठाया है क़दम।
यही सच्चे अर्थों में, माँ के चरणों का वंदन।

ग्राम सड़क योजना से देश में जाल बिछाया है।
इससे अर्थव्यवस्था का पहिया त्वरित घुम पाया है।
आयुष्मान भारत योजना की जो सौग़ात है पाई।
GST देने वालों की एक बाढ सी है आयी।
सागरमाला प्रोजेक्ट से अब नदियों से होगी यात्रा।
जहाँ प्राकृतिक सौंदर्य के साथ प्रदूषण की कम होगी मात्रा।

जब ब्रिटेन में 53 देशों की मीटिंग हुई थी आयोजित।
तब मोदीजी हुए थे महाअध्यक्ष रूप में चयनित।
जब मानवाधिकार परिषद में 188 वोट से वे बने सदस्य।
इतनी बड़ी जीत का, क्या चाहिए किसी को परिचय?
पच्चीस ताक़तवर देशों में, भारत हुआ नंबर चार।
अमेरिका, रूस, चीन के बाद भारत का होना एक चमत्कार।

सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने में, भारत का हुआ दूसरा स्थान।
इस दौड़ में पीछे छूटा, अमेरिका और जापान।
सुपरसोनिक मिसाइल दाग़ने में भारत पहला देश बना।
यदि गर्व से सिर ऊँचा हो तो, जय हिन्द ज़रूर बोलना।
Demonetisation से पाकिस्तान बना गरीब और कंगाल।
Surgical strike से पाकिस्तान का हुआ बुरा हाल।

भारतीय सेना को मिला बुलेटप्रूफ़ का कवच।
जिससे हमेशा लहराता रहेगा हमारा राष्ट्रीय ध्वज।
अब किसानों को मिलने लगा है फ़सल का डेढ़ गुना भाव।
जवानों को दिया वन रैंक वन पेंशन का ईनाम।
जय जवान जय किसान का नारा, अब सार्थक हो पाएगा।
जब देश का हर किसान, पसीने की सही क़ीमत पाएगा।

श्रमयोगी मानधन व किसान सम्मान निधि ने मारा है छक्का।
इस योजना को देखकर विपक्ष को लगा ज़ोर से धक्का।
कोई कितना भी गठबंधन कर ले, एक मोदीजी सबके लिए काफ़ी है।
अभी तो दर्पण से धूल हटी है, उसे चमकाना बाक़ी है।
56 महीनों में एक अवकाश नहीं, यह होता है 56 इंच का सीना।
धन्य है माँ भारती जिसने पाया ऐसा क़ीमती नगीना।

अभिमन्यु रूपी मोदी जी के लिए चक्रव्यूह रहा है बन।
हम सब को एक साथ मिलकर करना होगा इसका भेदन।
माँ भारती के पुजारी को फिर से सत्ता में लाना है।
नमो का उद्घोष करते हुये उन्हें ही विजयी बनाना है।

Shashi Lahoti

1 thought on “मेरे मन के मोदी मेरी क़लम से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *